Latest Top Ten Posts

#bajiraomastani – BAJIRAO THE GREAT 25 INTERESTING FACTS

अगर बाजीराव पेशवा को सिर्फ मस्तानी के प्रेमी की तरह देखा जाने लगा तो ये देश का दुर्भाग्य होगा
—-
पेशवा के महान व्यक्तित्व के बारे में 25 रोचक तथ्य-
1. ‘बाजीराव दी ग्रेट’ का जन्म सन् 1700 में हुआ.. उन्होंने पेशवा का भार 1720 में महज 20 साल की आयु में लिया..
छत्रपति शाहु महाराज ने इस प्रतिभा को पहले ही पहचान लिया था..
2. जिस समय बाजीराव पेशवा बने वह दौर धर्म और समाज के लिए बहोत बुरा था..
पूरा भारत देश मुघलो की चंगुल में फसकर लहुलुहान हो रहा था..उसकी अस्मिता भेड़ियों द्वारा नोची जा रही थी..स्वाभिमानी महिलाओं को जौहर के अलावा कोई विकल्प नही था..
भारत में हिन्दू राजा या तो आपस में बटकर आपस में ही लड रहे थे या अपने फायदे के लिए मुघलो की ग़ुलामी कर रहे थे..
3. तभी बाजीराव ने अपने जबरदस्त कुटनीति के बल पर अय्याशियों में डूबे मुघलो की कमजोरी भाँप ली,
और शाहु महाराज से कहा, की दक्खन की बंजर जमीन छोड़ कर उत्तर में मुघलो का खजाना लूट कर उनको हिन्दुस्तान से खदेड़ने का यही सही समय है..
बाजीराव ने शाहु महाराज से उत्तर में नर्मदा और दक्षिण में कृष्णा नदी पार करने की आज्ञा मांगी..
4. बाजीराव ने सिंदिया, होलकर, गायकवाड़, भोसले जैसे सभी ताकतवर मराठा सरदारों को एकत्रित करना शुरू किया, उन्होंने नौसेना के अधिपति वीर कान्होजी आंग्रे को शाहु महाराज को अपना छत्रपति स्वीकार करने के लिए मना लिया..
और कारखानो में शस्त्रों की निर्मिति 4 गुना बढ़ा दी, बाजीराव की इन सभी तैयारियों से मुग़ल बादशाह अंजान था..
5. शक्तिशाली मुघलों से सीधी टक्कर लेने से पहले बाजीराव अपनी जबरदस्त युद्ध कला का परिचय देते हुए आस पास के निज़ामशाही, पोर्तुगीज, सिद्दी, बंगश पठान और गद्दार हिन्दू राजाओ को एक एक करके कुचलते गए..
6. इस बिच बुंदेलखंड पर बंगश पठान ने हमला कर दिया तो राज ने बाजीराव से मदद मांगी, बुंदेलखंड की लाज बचाने के उपकार में राजा ने बाजीराव को मस्तानी भेंट के रूप में दी..
7. बाजीराव ने सन् 1728 के पालखेड़ के मशहूर युद्ध में बिजली की गति से अश्वसेना का नेतृत्व करके पूरी क्रूर निज़ामशाही नेस्तनाबूत कर दी, निज़ाम अपनी डायरी में लिखता है, की उसकी रातों की नींद हराम हो गयी है, उसे बाजीराव के भयानक ख्वाब आते है..
यह पालखेड का युद्ध दुनिया के 5 सबसे हैरतंगेज युद्धों में शुमार है, जिसकी रणनीति को हिटलर ने रूस के खिलाफ अपनाया था..
8. अब बारी मुग़लिया बादशाह मुहम्मद शाह की थी, बाजीराव 4 लाख की सेना लेकर दिल्ली के तख्त की तरफ कूच कर गए,
जब तक बादशाह बाजीराव की युद्धनीति समझ पाता, बाजीराव की अश्वसेना मुग़लिया सल्तनत में त्राहि त्राहि मचा रही थी..
बादशाह के इतिहासकार लिखते है,
मैदान में जंग में बाजीराव की ‘हर हर महादेव’ की सिंह गर्जना सुनकर मुग़लिया सेना दोगुनी बड़ी होकर भी दहल जाती थी..
9. महाराज पृथ्वीराज चौहान के पुरे 500 सालों बाद पहली बार दिल्ली के तख्त पर बैठा कोई बादशाह या सुलतान किसी पराक्रमी हिन्दू सेनापति के सामने लाचार और बेबस नजर आ रहा था..
इस तरह अपने अतुलनीय पराक्रम और साहस से ‘बाजीराव दी ग्रेट’ ने पूरे हिन्दुस्तान से मुघलो को जड़ से उखाड़ फेका..
मुग़लों का सर्वनाश करने वाले बाजीराव को राजपूत राजाओं ने ‘मुग़ल वंश संहारक’ के खिताब से नवाजा..
10. जिस मुग़ल बादशाह औरंगजेब ने शिवाजी महाराज के परम् प्रतापी पुत्र छत्रपति संभाजी महाराज की तड़पा तड़पा कर हत्या की थी,
बाजीराव ने उस हत्या करने वाले को और उसके सभी बेटों को ढूंढ कर उसी प्रकार तड़पा तड़पा कर मार के संभाजी महाराज की क्रूर हत्या का बदला लिया,
ताकि कोई भी मुग़ल बादशाह किसी हिन्दू राजा की हत्या करने से पहले सौ बार सोचे..
11. अब पहली बार भारतवर्ष में हरे चाँद सितारे की जगह भगवा फहराया जा रहा था..
जिस हिंदवी स्वराज्य की शिवाजी महाराज ने प्रतिकूल परिस्थितियों में नींव रखी थी, वह अब पूर्व में कटक से लेकर उत्तर में अफ़ग़ानिस्तान से सटे अटक से लेकर तक फ़ैल गया था,
दक्षिण में कावेरी से लेकर उत्तर में सिंधु नदी तक भगवा परचम शान से लहरा रहा था..
ईरानी बादशाह भी बाजीराव से खौफजदा होने लगा था.
बाजीराव अब विधर्मियों के लिए दहशत का दूसरा नाम बन गए थे,
बाजीराव के समर्पण के आदेश का खत पाकर ही, किसी भी नवाब, सुलतान या बादशाह की रूह काँप जाती थी..
बाजीराव ने समस्त भारतवर्ष में हिंदुओंकी जबरदस्त साख और धाक बना दी थी..
12. महज 6 जिलों तक सिमित हिंदवी स्वराज्य का विस्तार अब पुरे 28 लाख चौरस किलोमीटर तक हो चूका था..(वर्तमान भारत आज 32 लाख चौरस किलोमीटर है)
छत्रपति शिवाजी महाराज का स्वप्न ‘बाजीराव दी ग्रेट’ ने साकार कर दिया था,
मुग़लो की चंगुल से भारत माँ को मुक्त कर दिया गया और बाजीराव द्वारा ‘हिंदुपद पादशाही’ (मतलब हिंदुओंका शासन) की स्थापना कर दी गयी..
छत्रपति शिवाजी महाराज ने विदेशी आक्रमणकारी मुग़लों के खिलाफ जो युद्ध आरंभ किया था, उसका अंत ‘बाजीराव दी ग्रेट’ ने कर दिया..
13. दिल्ली की जगह अब पुणे भारत की राजनीति का केंद्र बन चूका था..
लाल किले की जगह ‘शनिवारवाड़ा’ भारत के शासक का निवासस्थान बन गया था..
14. अब बाजीराव ने खोई हुई राष्ट्रीय अस्मिता को पुनर्स्थापित करने का कार्यक्रम हाथ में ले लिया,
तोड़े गए हिन्दू मंदिरोंकी मरम्मत की जा रही थी,
जबरन धर्मपरिवर्तन किये हुए हिंदुओंकी घर वापसी शुरू हो गयी..
संस्कृत भाषा का सम्मान वापस आ रहा था
भारत का कोना कोना ‘हर हर महादेव’ की गर्जना से गूंज रहा था..
सालों के बाद प्रजा को अपना खुदका हिंदवी स्वराज मिल गया था..
15. बाजीराव ने आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए व्यापार, उद्योग और कृषि को विकसित करना शुरू कर दिया..
नए महामार्ग, व्यापारी शहर बसाये जा रहे थे,
शस्त्र भी विदेश में निर्यात हो रहे थे..
विदेशी व्यापार से भारत जबरदस्त मुनाफा कमाने लगा था..
अंग्रेज भी लिखते है, की उन्होंने भारतियों को जहाज निर्मिति के बारे में जितना सिखाया है उससे ज्यादा वे खुद बाजीराव के कारीगरों से सीखे है..
आश्चर्य की बात है की, बाजीराव के शासन काल में भारत दुनिया का सबसे अमीर देश बन चूका था, विश्व् GDP में भारत की हिस्सेदारी पुरे 33% थी..(आज महाशक्ति अमेरिका का हिस्सा 23% है)
विदेशी पर्यटक भी भारत के इस दौर को स्वर्णयुग से कम नही समझते थे..
प्रजा खुशहाल और संपन्न हो गयी थी,
इस बारे में लार्ड मेकॉले का ब्रिटिश संसद में संबोधन इस बात की पुष्टि करता है..
16. अपने महज 20 सालो के कार्यकाल में ‘बाजीराव दी ग्रेट’ एक वीर सेनापति और कुशल कुटनितिज्ञ के साथ साथ एक प्रजाहितदक्ष शासक भी साबित हुए थे..
आजीवन बाजीराव छत्रपति के वफादार और सेवक बनकर ही पेशवा पद संभालते रहे..
17. परन्तु दुर्भाग्य से सन् 1740 में महज 40 साल की आयु में इंदौर के पास बाजीराव का कड़ी धुप में लगातार 14 घन्टे घोडसवारी करने के कारण उष्माघात से अचानक दुःखद निधन हो गया..
इस वीर योद्धा को किसी का शस्त्र भी नही मार सका था, उसे काल के अचानक आघात ने समाप्त कर दिया..
उनके बाद उनके पुत्र बालाजी बाजीराव पेशवा ने भी उनका विजयी अभियान चालु रखा..
18. ‘बाजीराव दी ग्रेट’ को भारत का नेपोलियन भी कहा जाता है, पर ऐसा कह के हम उलटा नेपोलियन का सम्मान बढ़ा रहे है..
नेपोलियन का साम्राज्य बाजीराव के इक-तिहाई भी नही था..
जहा नेपोलियन अंग्रेजो से ‘वाटरलू’ की लड़ाई हारकर कैद में ही मर गया,
वहा ‘पेशवा बाजीराव’ सभी 41 युद्ध जीत कर आजीवन ‘अपराजित योद्धा’ कहलाये..
बिजली सी गति, शेर सा साहस और लोमड़ी जैसी चालाकी बाजीराव की पहचान थे..
बाजीराव के युद्धनीति आज कई विदेशी युनिवेर्सिटीओं में पढ़ाई जाती है..
19. अंग्रेज गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव्ह ये कबूल करता है की,
"अगर बाजीराव 15-20 साल और जीवित रहते या उनकी अगली पीढ़िया भी ऐसा ही पराक्रम दिखाती तो अंग्रेजों का भारत जितने का सपना केवल सपना ही रह जाता",
अगर सच में ऐसा होता तो आज भारत कहा से कहा होता..
20. पंडित नेहरू जो भारत को अंग्रेजों के चश्मे से देखा करते थे, वो भी अपनी पुस्तक ‘डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ में लिखते है,
"अगर आधुनिक भारत में किसी शासकों के पास अपने राज्य तक मर्यादित न होकर, राष्ट्रीय नीति या सोच थी तो वे केवल मराठे थे, खासकर पेशवा बाजीराव"..
21. आज हम आम भाषा में जो मुहावरे सुनते है जैसे ‘जान की बाजी लगाना’ या ‘बाजीगर’, ये मुहावरे वीर बाजीराव के नाम के ही रूपक है..
इतिहास में कई योद्धा आते और चले जाते है,
पर वीर ‘बाजीराव दी ग्रेट’ जैसे कुछ की वीर योद्धा होते है, जो काल के पटल पर अपनी अमीट छाप छोड़ जाते है..
22. इन तमाम उपलब्धियों के बावजूद अगर ‘बाजीराव दी ग्रेट’ की ओर संकीर्ण दृष्टीकोण से देखा जाए तो अपने तरफ से यह एहसान फरामोशी होगी..
हा वे मराठा पेशवा थे, पर उनकी राष्ट्रीय निति थी,
हा वे मराठा पेशवा थे, पर उन्होंने बहोत से राजपूत, बुंदेलखंड के राजा छत्रसाल, जाट और कई अन्य सरदारो का भी सहयोग लिया और उनको सहयोग भी दिया..
हा वे मराठा पेशवा थे पर उनकी सेना और प्रशासन में सभी जातियों का आदर था,
युद्ध के बाद वे सेना के साथ बैठकर खाना खाते थे..
इसलिए बाजीराव को केवल मराठा पेशवा या महाराष्ट्र प्रदेश या किसी जाती तक सिमित करना जराभी उचित नही,
उनकी महान शख्सियत सभी मतभेदों को लांघने ने सक्षम है..
आखिर बाजीराव लड़े तो भारत के लिए, हिंदुपद पादशाही की स्थापना के लिए..!!
23. पर अंग्रेजो ने मार्क्सवादी इतिहासकारों द्वारा को इस महान बाजीराव के चरित्र को कलंकित करने का प्रयास किया, उनकी उपलब्धियों को निचा दिखाने के लिए, बस एक अय्याश के रूप में पेश किया गया..
अंग्रेजों ने हमेशा मराठों को लुटेरा ही बताया है,
और निज़ाम, टीपू और मुग़लों को अच्छे शासकों के रूप में दिखाया गया है,
यही बात आज के स्कुल के पाठ्यक्रम में बच्चों को पढ़ाकर उनका बुद्धिभेद किया जा रहा है,
भारत के सच्चे नायकों की जगह

A B C D OF HINDI VERY THOUGHTFUL INFORMATION

✴✴✴🔔✴✴✴
शायद
बहुत कम लोग
जानते होंगे की
प्रसाद का अर्थ
क्या होता है !!

🏀🏀🏀
🏀प्र – प्रभु के🏀
🏀सा – साक्षात्🏀
🏀द – दर्शन🏀
🏀🏀

हिंदी एक वैज्ञानिक भाषा है
और कोई भी अक्षर वैसा क्यूँ है
उसके पीछे कुछ कारण है ,
अंग्रेजी भाषा में ये
बात देखने में नहीं आती |
______________________
क, ख, ग, घ, ङ- कंठव्य कहे गए,
क्योंकि इनके उच्चारण के समय
ध्वनि
कंठ से निकलती है।
एक बार बोल कर देखिये |

च, छ, ज, झ,ञ- तालव्य कहे गए,
क्योंकि इनके उच्चारण के
समय जीभ
तालू से लगती है।
एक बार बोल कर देखिये |

ट, ठ, ड, ढ , ण- मूर्धन्य कहे गए,
क्योंकि इनका उच्चारण जीभ के
मूर्धा से लगने पर ही सम्भव है।
एक बार बोल कर देखिये |

त, थ, द, ध, न- दंतीय कहे गए,
क्योंकि इनके उच्चारण के
समय
जीभ दांतों से लगती है।
एक बार बोल कर देखिये |

प, फ, ब, भ, म,- ओष्ठ्य कहे गए,
क्योंकि इनका उच्चारण ओठों के
मिलने
पर ही होता है। एक बार बोल
कर देखिये ।
________________________

हम अपनी भाषा पर गर्व
करते हैं ये सही है परन्तु लोगो को
इसका कारण भी बताईये |
इतनी वैज्ञानिकता
दुनिया की किसी भाषा मे
नही है
जय हिन्द
क,ख,ग क्या कहता है जरा गौर करें….
••••••••••••••••••••••••••••••••••••
क – क्लेश मत करो
ख- खराब मत करो
ग- गर्व ना करो
घ- घमण्ड मत करो
च- चिँता मत करो
छ- छल-कपट मत करो
ज- जवाबदारी निभाओ
झ- झूठ मत बोलो
ट- टिप्पणी मत करो
ठ- ठगो मत
ड- डरपोक मत बनो
ढ- ढोंग ना करो
त- तैश मे मत रहो
थ- थको मत
द- दिलदार बनो
ध- धोखा मत करो
न- नम्र बनो
प- पाप मत करो
फ- फालतू काम मत करो
ब- बिगाङ मत करो
भ- भावुक बनो
म- मधुर बनो
य- यशश्वी बनो
र- रोओ मत
ल- लोभ मत करो
व- वैर मत करो
श- शत्रुता मत करो
ष- षटकोण की तरह स्थिर रहो
स- सच बोलो
ह- हँसमुख रहो
क्ष- क्षमा करो
त्र- त्रास मत करो
ज्ञ- ज्ञानी बनो !!

amit kumar singh

PARICHOWK.COM – BEST ON WHATSAPP – सूरज अकेला ही तो चमकता है

1. जिदंगी मे कभी भी किसी को
बेकार मत समझना क्योक़ि
बंद पडी घडी भी दिन में
दो बार सही समय बताती है

 

2. किसी की बुराई तलाश करने
वाले इंसान की मिसाल उस
मक्खी की तरह है जो सारे
खूबसूरत जिस्म को छोडकर
केवल जख्म पर ही बैठती है

3. टूट जाता है गरीबी मे
वो रिश्ता जो खास होता है
हजारो यार बनते है
जब पैसा पास होता है

4. मुस्करा कर देखो तो
सारा जहाॅ रंगीन है
वर्ना भीगी पलको
से तो आईना भी
धुधंला नजर आता है

5..जल्द मिलने वाली चीजे
ज्यादा दिन तक नही चलती
और जो चीजे ज्यादा
दिन तक चलती है
वो जल्दी नही मिलती

6. बुरे दिनो का एक
अच्छा फायदा
अच्छे-अच्छे दोस्त
परखे जाते है

7. बीमारी खरगोश की तरह
आती है और कछुए की तरह
जाती है
जबकि पैसा कछुए की तरह
आता है और.खरगोश की
तरह जाता है

8. छोटी छोटी बातो मे
आनंद खोजना चाहिए
क्योकि बङी बङी तो
जीवन मे कुछ ही होती है

9. ईश्वर से कुछ मांगने पर
न मिले तो उससे नाराज
ना होना क्योकि ईश्वर
वह नही देता जो आपको
अच्छा लगता है बल्कि
वह देता है जो आपके लिए
अच्छा होता है

10. लगातार हो रही
असफलताओ से निराश
नही होना चाहिए क्योक़ि
कभी-कभी गुच्छे की आखिरी
चाबी भी ताला खोल देती है

11. ये सोच है हम इसांनो की
कि एक अकेला
क्या कर सकता है
पर देख जरा उस सूरज को
वो अकेला ही तो चमकता है

12. रिश्ते चाहे कितने ही बुरे हो
उन्हे तोङना मत क्योकि
पानी चाहे कितना भी गंदा हो
अगर प्यास नही बुझा सकता
वो आग तो बुझा सकता है

13. अब वफा की उम्मीद भी
किस से करे भला
मिटटी के बने लोग
कागजो मे बिक जाते है

14. इंसान की तरह बोलना
न आये तो जानवर की तरह
मौन रहना अच्छा है

15. जब हम बोलना
नही जानते थे तो
हमारे बोले बिना’माँ’
हमारी बातो को समझ जाती थी
और आज हम हर बात पर
कहते है छोङो भी ‘माँ’
आप नही समझोगी

16. शुक्र गुजार हूँ
उन तमाम लोगो का
जिन्होने बुरे वक्त मे
मेरा साथ छोङ दिया
क्योकि उन्हे भरोसा था
कि मै मुसीबतो से
अकेले ही निपट सकता हूँ

17. शर्म की अमीरी से
इज्जत की गरीबी अच्छी है

18. जिदंगी मे उतार चङाव
का आना बहुत जरुरी है
क्योकि ECG मे सीधी लाईन
का मतलब मौत ही होता है

19. रिश्ते आजकल रोटी
की तरह हो गए है
जरा सी आंच तेज क्या हुई
जल भुनकर खाक हो जाते

20. जिदंगी मे अच्छे लोगो की
तलाश मत करो
खुद अच्छे बन जाओ
आपसे मिलकर शायद
किसी की तालाश पूरी हो